आदत से मजबूर

एक घोड़ा घास चर रहा था।

तभी उसने देखा कि एक लोमडीउसकी ओर आ रही थी।

वह लोमडी का स्वभाव जानता था।

वह जानताथा कि लोमड़ी बहुत चालाक है।

इधर लोमड़ी भी यह बात जानती थीकि घोड़े बहुत ताकतवर होते हैं।

इसलिए वह भी घोडे को बातों मेंउलझाने का तरीका सोच रही थी।

घोड़ा लोमड़ी को देखकर लँगड़ा-लँगड़ाकर चलने लगा।

लोमडीने पूछा कि उसे क्‍या हुआ है ?

तब घोड़े ने कहा ‘ऐसा लगता है कि मेरेपैर में काँठ चुभ गया है।

इसीलिए बहुत दर्द हो रहा है और चलने मेंमुश्किल भी: हो रही है।’

लोमडी ने कहा “मैंने एक डॉक्टर से इलाज करना सीखा है।

तुम्हें काफ़ी तकलीफ हो रही होगी। लाओ मुझे दिखाओ अपना पैर।’

ऐसा कहकर लोमडी चालाकी से घोड़े को पैर से पकड़ने केलिए झुकी।

उसने सोचा कि अगर उसने घोड़े को एक बार गिरा दियातो फिर उस पर काबू पाना आसान हो जाएगा।

लेकिन घोड़ा उससे ज़्यादा समझदार था।

जैसे ही लोमडी नेउसका पैर पकड्ना चाहा घोड़े ने उसे एक जोरदार लात मारी।

लोमडीहवा में उड़कर दूर जा गिरी।

अब घोड़े की जगह बेचारी लोमडी लँगड़ारही थी और सोच रही थी-मेरी आदत है चालाकी करना और घोडे की आदत है लात मारना।

दोनों अपनी-अपनी आदत से मजबूर हैं।

ऐसी आदतें जो कठिन समय॑ में काम आ जाएँ क्या बुरी हैं ?

क्‍योंभाई मानते हो या नहीं ?

लेकिन ऐसी आदतें जो दूसरों को तकलीफ पहुँचाएँ …. कभीमत सीखना!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin