सोने की मोहरें या न्याय

एक दिन बादशाह ने बीरबल से पूछा कि अगर तुम्हें न्याय व सोने की मोहर में से चुनने को कहा जाए तो तुम किसे चुनोगे ?”

बीरबल बिना हिचक बोले “सोने की मोहर।”

अकबर हैरान हुए और बोले “तुम न्याय की जगह स्वर्ण मुद्रा लेना पंसद करोगे।”

“हां” बीरबल ने कहा।

दरबारी भी यह बात सुनकर हैरान हो गये।

वर्षों से वे सब बीरबल को बादशाह की नजरों से नीचा गिराना चाहते थे।

लेकिन आज तक किसी को सफलता नहीं मिली और आज वह काम बीरबल ने स्वयं कर दिया।

उन्हें अपने भाग्य पर विश्वास नहीं हुआ।

बादशाह बोले “अगर कोई नौकर इस बात को कहता तो मुझे बुरा व अजीब नहीं लगता।

लेकिन तुम्हारे इस उत्तर से मैं अचम्भित व दुखी हूं।

मुझे नहीं पता कि तुम इतने लालची हो।”

बीरबल ने शांत स्वर में कहा “जहांपनाह आपके राज्य में न्याय तो सबको मिलता है

इसलिए न्याय तो मेरे पास पहले से ही है लेकिन मेरे पास धन की कमी रहती है इसलिए मैंने सोने की मोहर को चुना।”

अकबर बीरबल के उत्तर से खुश हुए और उसे एक नहीं एक हज़ार स्वर्ण मुद्राएं दीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin