बुरा सपना

बेटा शेख क्‍या तुमने दुबारा वही सपना देखा ?

शेख चिल्लीकी चिंतित मां ने उससे एक सुबह पूछा।

“तुम पूरी रातबेचैन रहे और करवटें बदलते रहे।”

शेख चिलली ने अपना सिर हिलाया और फिर अपनी बाहों कोअम्मी के गले में डाला।

अम्मी ही तो उसका पूरा परिवार थीं।

“आज मैं तुम्हें हकीमजी के पास ले चलूंगी ” अम्मी ने कहा।

“इंशाअल्लाह वो तुम्हारे इन खराब सपनों का खात्म कर देंगे।”

हकीम ने बड़े धैर्य से शेख चिल्‍ली की कहानीं को सुना। कई रातोंसे शेख चिल्‍ली को एक बुरा सपना आ रहा था जिसमें वो खुद एक चूहा होता था और गांव की सारी बिल्लियां उसका पीछा कर रही होतीथीं।

जागने के बाद भी बड़ी मुश्किल से ही’ शेख चिल्‍ली अपने आपकोयह समझा पाता था कि वो एक चूहा नहीं बल्कि एक लड़का है।

मेरे बच्चे को यह तकलीफ क्‍यों हैं ?

शेख की मां ने हकीमसे पूछा। “जब वो छोटा था तो एक जंगली बिल्ली ने मेरे बचाने सेपहले उसे जोर से नोचा था।

क्‍या वो उसी सपने को बार-बार देखता है ?

“शायद” हकीम ने कहा। “पर आप इसकी ज़्यादा परवाह नकरें।

ख़राब सपनों की बीमारी जल्दी ही ठीक हों जाएगी। बेटा शेखआज से हर शाम को तुम मेरे पास दवा के लिए आना। और यह मतभूलना कि तुम एक चूहा नहीं बल्कि एक खूबसूरत नौजवान हो।”यह सुनकर शेख का चेहरा मुस्कान से खिल उठा।

हर शामहकीम बिता बाप के इस लड़के से कोई एक घंटा बातचीत करते थे।

फिर उसे कोई अहानिकारक दवाई देकर घर भेज देते जिससे कि शेख को रात को अच्छी नींद आए।

धीरे-धीरे शेख चिल्ली और हकीम अच्छे दोस्त बन गए। हकीमने शेख को अच्छी सेहत और साफ-सफाई के बारे में सरल बातेंबतायीं।

“बेटा शेख उन्होंने एक शाम को कहा, “अगर मेरा एक कानगिर जाए तो क्या होगा ?

“हकीमजी तब आप आधे बहरें हो जाएंगे” शेख ने हकीम केबड़े – बड़े कानों को घूरते हुए कहा।

“ठीक फर्माया” हकीमजी ने कहा। “और अगर मेरा दूसरा भीकान गिर जाए तो?”

तो फिर आप अंधे हो जाएंगे हकीमजी” शेख ने कहा।

“अंधा?” घबराए हुए हकीमजी ने पूछा।

हां।” शेखर ने उत्तर दिया। “अगर आपके कान नहीं होंगे तोफिर क्‍या आपका चश्मां नहीं गिरेगा ?”

हकीमजी यह सुनकर ठहाका मार कर हंसे। “तुम ठीक कहते होशेख बेटा” उन्होंने कहा। “इसके बारे में तो मैंने कभी सोचा ही नहींथा!”

धीरे-धीरे शेख के खराब सपने बंद हो गए। कि वो एक चुहा हैंइस बात कौ सपने में उसने कल्पना करनी बंद कर दी। एक दिनहकीम का एक पुराना दोस्त उनसे मिलने के लिए आया। शेख से बाजारसे कुछ गर्म जलेबियां लाने के लिए कहा गया।

वो बस निकल ही रहाथा कि उसे कुछ फीट की दूरी पर एक बड़ी बिल्ली दिखाई दी।

“हकीमजी मुझे बचाइए!” शेख हकीमजी के पीछे छिपकरगिड़गिड़ाया।

मेरे बेटे अब तुम चूहा नहीं हो। कया तुम्हें यह पता नहीं है ?”

“मुझे अच्छी तरह पता हैं हकीमजी” शेख को अभी भी डर लगरहा था। “पर क्‍या बिल्ली को यह बात किसी ने बताई है ?”

अपनी मुस्कराहट को दबाते हुए हकीम ने बिल्ली को ‘भगा दिया।उसके बाद शेख को दिलासा दिलाने के बाद उन्होंने उसे जलेबियां लेनेके लिए भेजा।

मैं इस लड़के के पिता को अच्छी तरह जानता था” हकीमजीके मेहमान ने शेख चिल्ली क॑ बारे में कुछ सुनने के बाद कहा। “मैंउसके घर जाकर उसकी मां से दुआ-सलाम करना चाहूंगा।”

“शेख आपको अपने घर ले जाएगा” हकीमजी ने कहा। कुछकरारी जलेबी खाने के बाद और कहवा पीने के बाद शेख और मेहमानशेख के घर की ओर चले।

“क्या यह सड़क सीधे तुम्हारे घर को जाती हैं ?”

“नहीं” शेख ने कहा।

मेहमान को कुछ आश्चर्य हुआ। “मुझे लगा यह जाती होगीउन्होंने कहा।

“नहीं, यह सड़क मेरे घर नहों जाती है,” शेख ने कहा।

“फिर वो कहां जाती हैं ?” मेहमान ने पूछा।

“ वो कहीं भी नहों जाती हैँ, शेख ने शांत भाव में उत्तर दिया।

मेहमान उसकी ओर घूरने लगा। “बेटा इससे तुम्हारा क्या मतलबहैं ?”

जनाब ” शेख ने शांति से कहा। “सडक भला कैसे जा सकतीहै ? उसके पैर तो होते नहीं है।

सड़क तो एक बेजान चीज हैं। वो जहांपर है वही पड़ी रहती है।

परंतु हम इस सडक से मेरे घर तक जासकते हैं। आपकी मेहमाननवाजी करके मुझे और अम्मी को बहुत खुशीहोगी।”

शेख की निष्कपटता से उस उमर दराज इंसान का दिल पसीजगया। कुछ सालों बाद शेख चिल्ली उसका दामाद बना !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin