चोरी हुआ टापू

बहुत समय पहले काकना गाँव के पास एक छोटा-सा टापू था ।

छोटा होने पर भी वहएक दर्शनीय टापू था ।

उस पर कोई रहता नहीं था। लोग उस पर सिर्फ घूमने और शिकारकरने के लिए जाते थे ।

टापू पर ‘साका’ नाम का एक पक्षी भी आता-जाता था। पूरी दूनिया में वह एक हीपक्षी था। वह छोटा परन्तु बहुत चतुर-चालाक था ।

वर्षों तक साका टापू में उड़ान भरता रहा । उसको टापू इतना अधिक भाया कि उसनेउसे अपने साथ ले जाने की योजना बनाई ताकि उसके रहने की जगह हमेशा खूबसूरतबनी रहे । उसके सिवा कोई औरं वहाँ न हो।

एक रात जब सारी दुनिया सोई हुई थी साका ने सोचा— अच्छा मौका है। ऐसे में

मुझे इस टापू को ले उड़ना चाहिए।

साका कल्पना में खो गया। उसे लगा कि पूरा टापू उसके घर में है और वह आराम सेयपू में उड़ान भर रहा है। वहाँ उसका एक प्यारा घोंसला है। तरह-तरह के दूसरे पक्षीआसपास चहक रहे हैं ।

सभी उस टापू की प्रशंसा कर रहे हैं और वहाँ रुक जाना चाहतेहै। अचानक उसकी तन्द्रा टूटी और वह उस छोटे टापू को पीठ पर लादकर अपने निवासकी ओर उड़ चला।

साका छोटा था। वह बड़ी सावधानी के साथ उस भारी-भरकम टापू को लेकर उड़रहा था। दिन निकलने से पहले वह अपने निवास पर पहुँच जाना चाहता था। लेकिनसमय उसकी उड़ान की तुलना में तेजी से गुजर रहा था।

जैसा कि उसको डर था रात समाप्त हो गई।

दिन निकल आया ।

लोग जाग उठे। उन्होंने साका को टापू लेकर जाते हुए देख लिया ।

पूरब की ओर से आती सूरज की पहली किरण पड़ते ही साका ने टापू को नीचे फेंकदिया और तेजी से अपने निवास की ओर उड़ गया ।

टापू उलटकर समुद्र में जा गिरा ।

लोगों का मानना है कि चौरा के रास्ते में सागर के बीच झाँकता ‘छोटा टापू’ ही वहचोरी गया टापू है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin