भयंकर मोर्चा

लंका के चारों द्वारों पर वानर सेना ने आक्रमण कर दिया था ।

राम-लक्ष्मण सुग्रीव जामवंतआर विभीषण के नेतृत्व में वानर सेना ने उत्तर से आक्रमण किया ।

रावण की आज्ञा से उनकीचतरंगिणी सेना चारों फाटकों से निकले पड़ी और राक्षसेन्द्र रावण की जय बोलती हुई वानर सेनापर टूट पड़ी ।

बंदरों ने उस पर पेड़ और पत्थर बरसाने शुरू किए ।

दुर्ग की खाई उनसे पट गई ।बंदर किलकारी मारते हुए कोट पर चढ़ गए और राक्षसों को पकड़-पकड़ कर नीचे फेंकने लगे ।

दाँत नख धप्पड़ और घूँसा उनके हथियार थे ।

राक्षस उन्हें शूल और तलवारों से काट रहे थे ।

हाथियों के चिंघाड़ने घोड़ों के हिनहिनाने और रथों के परधघराहट का कोलाहल चारों ओर भरगया। दोनों ओर के बहुत-से वीर मारे गए ।

श्रीराम के बाणों के आगे जो भी आया मारा गया । लड़ते-लड़ते शाम हो गई ।

अब मेघनाद ने अपनी ओर का मोर्चा सँभाला ।

युवराज अंगद” उसके घोड़ों और सारथी को मार डाला । तब वह छिपकर युद्ध करने लगा । माया के कारणकिसी को दिखाई नहीं देता था ।

उसने सारी वानर सेना को अपने पैने बाणों से छेद डाला और नागबाणों से राम-लक्ष्मण को मूर्च्छित कर दिया ।

विजय-घोष करता हुआ वह लंका लोटगया । उसने पिता को बताया कि राम-लक्ष्मण मारे गए ।

राम के मारे जाने का समाचार सुनकर रावण बड़ा खुश हुआ ।

मेघनाद को गल रेवह उसकी वीरता की प्रशंसा करने लगा ।

अशोक वाटिका से राक्षसों को बुलाकर रावण ने कहाकि पुष्पक विमान में सीता को ले जाकर दिखा दो कि राम और लक्ष्मण मारे गए ।

वे अपनी आँखों से यह दृश्य देख लें। राक्षसियों ने रावण की आज्ञा का पालन किया । राम-लक्ष्मण कापड़ा देखकर सीता रोने लगीं ।

तब त्रिजटा ने कहा “देखो इनके मुख पर मृत्यु का कोई चिह्ननहीं है ।

वे केवल मूच्छित हैं। थोड़ी देर में उठ बैठेंगे ।

विमान अशोक वाटिका को लोटगया ।

इधर राम-लक्ष्मण को अचेत देखकर सुग्रीव रोने लगे ।

विभीषण ने उन्हें धैर्य बांधते हुएकहा–‘यह समय रोने का नहीं है ।

अपनी सेना सँभालिए । मैं राम-लक्ष्मण की चिकित्सा काप्रबंध करता हूँ ।

थोडी देर में राम की मूर्च्छा टूटी ।

उन्होंने लक्ष्मण को अचेत और खून से लथपथ देखा ।

वे तरह-तरह से विलाप करने लगे-‘मैं माता सुमित्रा को अब कैसे मुँह दिखाऊंगा ।

हाय मेंविभीषण को लंका का राज न दे सका । सुग्रीव तुम सेना लेकर किष्किन्धा लौट जाओ ।

में भी यहीं प्राण दे दूँगा । तभी विभीषण गदा लिए आते दिखाई दिए ।

वानरोंन समझा कि मेघनाथ फिर आ गया । उनमें भगदड़ मच गई ।

जामवंत ने सबको बताया कि ये मेघनाद नहीं महात्मा विभीषण हैं।

श्रीराम को बिलाप करते देख विभीषण ने समझाया वीर पुरुष रणभूमि में रोते नहीं ।

शोक से उत्साह का नाश होता है और सब काम बिगड़ जाते हैं ।

आप तो वीर शिरोमणि हैं औरहम सबको रास्ता दिखाने वाले हैं ।

लक्ष्मण चिकित्सा से ठीक हो जाएँगे । वे केवल मर्च्छितहैं।

वेद्याज सुषेण ने कहा कि अगर संजीबनी और बिशल्यकरणी औषधियाँ मिल जाएँ तोराम-लक्ष्मण अभी स्वस्थ हो जाएँगे ।

ये बातें हो ही रही थीं कि पक्षियों के राजा गरुड़ आ गए।

उनके आते ही राम-लक्ष्मणनागपाश से छूट गए । उनके घाव भर गए और वे पूरी तरह स्वस्थ हो गए ।

यह देखकर वानरसेना हर्ष-ध्वनि करने लगी।

उधर रावण को जब यह समाचार मिला तो उसने एक-एक करके कई राक्षस वीर लड़नेके लिए भेजे | पहले धूप्राक्ष आया ।

उसको हनुमान ने मार डाला । फिर बद्जद॑ष्ट्‌ आया वहराम-लक्ष्मण से लड़ने लगा ।

अंगद ने बढ़कर तलवार से उसका सिर काट डाला । उसके मारेजाने पर रावण ने अकंपन को भेजा ।

उसके प्रहार से वानर सेना भागने लगी ।

तब वीर हनुमानआगे आ गए । राक्षस के तीखे बाणों की परवाह न करके उन्होंने एक बड़ा-सा पेड़ उस परफेंका । अकंपन कुचलकर मर गया ।

तब रावण का सेनापति प्रहस्त लड़ने के लिए आया ।

नील ने उससे युद्ध किया और उसकाधनुष तोड़ डाला । तब प्रहस्त ने नील पर मूसल से प्रहार किया ।

उसकी चोट से नील की आँखोंके आगे अँधेरा छा गया फिर संभल कर उन्होंने एक बड़ी भारी शिला से प्रहस्त को कुचलकर मार डाला ।

इन योद्धाओं के मारे जाने पर रावण स्वयं युद्ध के लिए चल पड़ा ।

बहुत-से राक्षस वीरमेघनाद अतिकाय महोदर नरांतक_ आदि उसके साथ थे । रावण ने पहला बार सुग्रीव पर कियाऔर उनको अचेत कर दिया ।

फिर उसने सब प्रमुख वानर वीरों को घायल कर दिया। तबलक्ष्मण ने युद्ध करने की आज्ञा माँगी ।

हनुमान आदि वीर वानरों के साथ श्रीराम ने लक्ष्मण कोयुद्ध के लिए भेजा । पहले हनुमान से रावण की भिड़ंत हुई ।

दोनों ने एक-दूसरे को मुक्कामारा ।

मुक्के की चोट से रावण लडखड़ा गया और हनुमान के बल की प्रशंसा करने लगा ।

अबलक्ष्मण और रावण का बाण-युद्ध होने लगा । पहले रावण ने बाणों की मार से लक्ष्मण कोविचलित कर दिया ।

लक्ष्मण ने रोष करके रावण का धनुष काट दिया और बाणों से उसकाशरीर छेद डाला । उसे लगा कि लक्ष्मण प्राण ही ले लेंगे ।

तब रावण ने उन पर ब्रह्मशक्ति चलादी । शक्ति के लगते ही लक्ष्मण गिर पड़े । रावण उनके पास चला गया और उन्हें उठाकर लंकाले जाने की कोशिश करने लगा ।

पर किसी तरह उठा न सका । यह देखकर हनुमान दोड़े आए ।’बण को एक घूँसा मारा जिससे वह मूर्छित हो गया ।

हनुमान ने लक्ष्मण को उठाकर रामके पास पहुँचा दिया । राम के पास पहुँचते ही वे स्वस्थ होकर उठ बेटे । इधर रावण की मूर्च्छाटूटी और फिर बाणों की वर्षा करने लगा । अब राम ने अपना धनुष उठाया और हनुमान के कंधेपर बैठकर वे युद्ध करने लगे ।

राम ने अपने पैने बाणों से पहले रावण का रथ्र॒ नष्ट कर दिया ।

फिर उसकी छाती में अनंक बाण मारे । रावण का मुकुट भी पृथ्वी पर गिर पड़ा । तब श्रीरामबोले रावण ! जाओ ! आज मैं तुम्हें छोड़ता हूँ अस्त्र-शस्त्र से सज्जित होकर और नए रथ मेंबैठकर फिर आना ।

लज्जित होकर रावण लौट गया । इस प्रकार राम-रावण संग्राम की पहलीमुठभेड़ समाप्त हुई ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin