लंका में हनुमान का प्रवेश

महेन्द्र पर्वत पर खड़े होकर हनुमान ने पहले सामने की ओर देखा |

अनंत सागर लहरा रहाथा ऊपर देखा तो अनंत आकाश था ।

पवन देवता का स्मरण करके उन्होंने अपनी लंबी भुजाएँआगे फैलाकर छलाँग ली और पवन की गति से लंका की ओर उड़ चले |

हवा को चीरते हुएवे गरजते चले जाते थे। मैनाक पर्वत ने उनको विश्राम देना चाहा परंतु वे रुके नहीं ।

कुछ ही दूर गए होंगे कि नागों की माता सुरसा उनके बुद्धि बल की परीक्षा लेने मुँहफाड़कर उनकी ओर दोड़ी ।

हनुमान ने बहुत विनय की पर वह न मानी और अपना मुँह बढ़ानेलगी ।

हनुमान भी अपना शरीर बढ़ाते गए ।

जब उसका मुँह बहुत चौड़ा हो गया तब हनुमानअपना शरीर छोटा करके उसके मुँह में घुसकर तुरंत निकल आए और बोले-‘“माता !

अब तो’ मैं तुम्हारे मुँह में घुसकर बाहर आ गया हूँ। अब जाने की अनुमति दें ।

सुरसा की परीक्षा मेंहनुमान खरे उतरे ।

उसने हनुमान को आशीर्वाद देकर कहा कि तुम राम का काम अवश्य करलाओगे ।

कुछ और आगे चलने पर उन्हें सिंहिका नाम की राक्षसी का सामना करना पड़ा ।

उसनेजल में हनुमान की परछाई पकड़ ली । इससे उनकी गति रुक गई और वे खिंचकर सिंहिका केपास जा पहुँचे ।

हनुमान ने अपने नाखुनों से उसका पेट फाड़ डाला | वे फिर उड़े और समुद्रपारकर लंका जा पहुँचे ।

छोटा रूप बनाकर हनुमान एक पर्वत की चोटी पर चढ़ गए ।

वहाँ से सारी लंका दिखाईदेती थी ।

उन्होंने देखा कि लंका के चारों ओर बड़ा मजबूत परकोटा है ।

परकोटे के चारों ओरखाई है और तरह-तरह के हथियार लिए सैनिक पहरा दे रहे हैं ।

उन्होंने यह भी देखा कि दुर्गपर सैकड़ों शतध्नियाँ रखी हैं ।

सोने की लंका जमगमंगा रही है।

नगर की शोभा और सुरक्षादेखकर हनुमान चकित हो गए ।

उन्होंने रात के अँधेरे में लंका में प्रवेश करना ठीक समझा ।

विडाल का-सा छोटा रूप बनाकर हनुमान लुकते-छिपते लंका में घुस गए ।

उन्होंने देखाकि लंका में एक से एक उत्तम भवन हैं।

चाँदनी रात में वे एक अटरी से दूसरी अटारी परआसानी से कूदने लगे |

सीता उनको कहीं दिखाई नहीं दीं । तब वे रावण के महल में घुस गए ।उन्होंने देखा कि रावण एक सजे हुए पलंग पर सो रहा है ।

आस-पास अनेक सुंदरियाँ सो रहीहैं । इधर-उधर मदिरा की प्यालियाँ पड़ी हैं। हनुमान ने बड़ी सावधानी से रावण का अन्त :पुर छान डाला परंतु सीता उनको कहीं न मिली । मंदोदरी को देखकर उनको सीता का भ्रम भीहुआ परंतु उन्होंने शीघ्र ही समझ लिया कि रावण के महल में सीता इस प्रकार निश्चित होकरनहीं सो सकतीं । उन्होंने एक-एक गली एक-एक घर देख लिया पर सीता कहीं न मिलीं ।

रावण के पुष्पक विमान को देखकर उन्हें बड़ा आश्चर्य हुआ | वह बड़ा अद्भुत था। उसकेपंखों में मणियाँ जड़ी हुई थीं ।

अन्तःपुर से लगी हुई रावण की अशोक वाटिका थी | एक परकोटे के ऊपर से हनुमान नेउसे देख लिया और पहरेदारों की आँख बचाकर उसमें घुस गए |

अशोक वाटिका में तरह-तरहके सुंदर वृक्ष थे और बीच में एक ऊँचा भवन था ।

अशोक के पेड़ पर चढ़कर हनुमान उसेदेखने लगे । उन्हें तरह-तरह की मुँहवाली अनेक राक्षसियाँ दिखाई दीं | फिर उन्होंने देखा किउनके बीच में एक उदास स्त्री बैठी आँसू बहा रही हे ।

उनको लगा कि हो न हो यही सीताजी हैं । उन्होंने मन ही मन उन्हें प्रणाम किया और वे सोचने लगे किस प्रकार माता से बात हो ।तरह-तरह की बातें सोचते बे पत्तों में छिपे बैठे रहे ।

अब रात का अंतिम पहर आ गया । नगरी में वेद पाठ होने लगे । रावण भी जगा और अपनीरानियों और दासियों को लेकर अशोक वाटिका में आ पहुंचा। हनुमान डाली पे चिपक गए

जिसस किसी का निगाह उन पर न पड़े । रावण को देखकर सीता थर-थर काँपने लगीं | रावणने सीता को अनेक प्रकार के भय व लोभ दिखाए परंतु सीता ने रावण का तिरस्कार ही किया ।सीता ने कहा-यदि तुम मुझे स्वामी के पाप प्रहँत्ञाकर क्षमा नहीं माँगोगे तो वे तम्हारा- सर्वरनाश कर डालेंगे ।

सोने की लंका मिट्टटी भें शिल जाएगी ।” क्रोध से आँखें लाल कर रावणबोला -”मन सोचने के लिए एक साल का समय दिया था ।

साल पूरा होने में दो महीने बचेहैं । इस बीच यदि तुम मरी बात नहीं मान लेती तो में अपनी चन्द्रहास तलवार से तुम्हारा गलाकाटकर फेंक दूँगा ।’” इतना कहकर रावण चला गया ।

रावण के चले जाने पर त्रिजटा नाम की एक बूढी राक्षसी ने दूसरी राक्षसियों से कहा“पिछली रात मेंने एक सपना देखा है ।

सारी लंका समुद्र में डूब गई । विभीषण को छोड़कर सब दक्षिण दिशा को चले गए हैं। यह सपना अच्छा नहीं है | मेरी राय में सीताजी की सेवाकरने में ही भलाई है ।

पेड़ पर बैठे-बैठे हनुमान सब कुछ देख-सुन रहे थे | सीता का दुःख देखकर वे दुःखी भीथे । उनको यह भी चिन्ता थी कि यदि सीता के सामने आकर संस्कृत में बोल उठें तो सीता उन्हें कहीं मायावी रावण ही न समझ ले | यंह ब्रिंचार कर उन्होंने पेड़ पर से ही राम वृत्तात सुनाना शुरू किया ।

उन्होंने राजा दशरथ का वैभव राम-जन्म राम-विवाह राम-वनवास हाँसीता-हरण सुग्रीव-मैत्री आदि का सब वृत्तांत संक्षेप में कह सुनाया | सीताजी आत्महत्या केविचार से उसी पेड़ के नीचे आ गई थीं जिस पर हनुमान बैठे थे | उन्होंने ऊपर की ओर देखा ।

हनुमान को देखकर पहले तो वे घबराईं पर उनकी बातों से और उनके व्यवहार से भरोसा होचला कि वे राम के ही दूत हैं और पता लेने के लिए यहाँ आए हैं ।

अब हनुमान ने देखा किसीता के मन में बार-बार संदेह उठ रहे हैं तो उन्होंने पर्वत पर फेंके हुए आभूषणों की चर्चाकी और अंत में राम की दी हुई मुद्रिका दी । अब सीता को पूरा भरोसा हो गया ।

हनुमान ने सीता का दुःख सुना और राम का विरह सुनाया | फिर उनको ढाढस बँधाते हुएकहा- समाचार पाते ही श्रीराम सेना लेकर आएँगे और रावण का वध करके आपको लेजाएँगे ।

सीताजी ने अपना चूड़ामणि उतारकर हनुमान को दिया और कहा जब तुम इसे स्वामीको दिखाओगे तो वे समझ जाएँगे कि तुम मुझसे मिल चुके हो। वीरवर लक्ष्मण से मेराशुभाशीर्वाद कहना | अब लौट जाओ तुम्हारी यात्रा मंगलमय हो ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin