राम-विरह और सीता की खोज

मारीच को मारकर जब राम लौट रहे थे तो लक्ष्मण उनको सामने से आते हुए दिखाई दिए ।

लक्ष्मण को देखकर उनके मन में तरह-तरह की शंकाएँ होने लगीं | मारीच का छल वे देख ही चुके थे |

लक्ष्मण से वे रुष्ट होकर बोले “मेरी आज्ञा का उल्लंघन करके तुमने ठीक नहींकिया ।’ लक्ष्मण ने सब बातें बताईं |

राम ने फिर भी कहा कि तुमको समझ से काम लेना था ।मेरा मन कह रहा है कि सीता अब आश्रम में नहीं हैं ।

दोनों भाई उदास मन कुटी में पहुँचे तो देखा बड़ां सन्‍नाटा है | वे ‘सीता ! सीता !! कहकरपुकारते पर कहीं से कोई उत्तर न आता । राम बोले–” देखो सीता को कोई चुरा तो नहीं लेगया या कहीं फूल चुनने निकल गई हैं ।” दोनों भाइयों ने बाहर-भीतर सब जगह खोज की ।

उन्होंने हर पेड़ से पूछा हर शिला से पूछा पशु-पक्षियों से पूछा पर सीता का पता किसी ने नहीं बताया । वे हाथ जोड़कर सूर्य से पवन से दसों दिशाओं से सीता का पता पूछते ।

शोकसे व्याकुल होकर राम रोने लगे | पंचवटी के हिरन गोदावरी नदी का सुहाना तट उन्हें दुखदायीलगने लगा । राम बहुत दुखी होकर लक्ष्मण से बोले– मैं अब प्राण देने जा रहा हूँ । तुमअयोध्या लौट जाओ ।”

लक्ष्मण ने समझा-बुझाकर राम को धैर्य बँधाया और सीता की खोज करने की सलाह दी ।दोनों भाइयों ने एक-एक पहाड़ और एक-एक कंदरा खोज डाली ।

खोजते-खोजते वे दक्षिण कीओर बढ़ने लगे । वे कुछ ही दूर गए होंगे कि उन्हें सीता के पैरों के निशान दिखाई दिए ।

टूटाहुआ कवच और धनुष भी उन्होंने देखा । एक आकाशयान भी टूटा हुआ था। लगता था वहाँकोई युद्ध हुआ है | तभी उन्हें खून से लथपथ जटायु दीख पड़ा ।

जटायु ने भी राम को देखलिया । उसके मुँह से रुधिर गिर रहा था फिर भी वह हिम्मत करके बोला – तुम जिस देवीकी खोज कर रहे हो उसे लंका का राजा रावण हर ले गया है ।

उसी ने मेरी यह दुर्गतिकर दी है | तुम”दक्षिण क़ी*ओर जाओ और सीता की खोज करो । इतना कहते-कहते

उसकी जीभ लड़खड़ाने लगी और आँखें बंद हो गई ।

राम ने धनुष बाण फैंककर गिद्धराज कोगोदी में उठा लिया और उसके लिए बिलाप करने लगे |

उन्होंने लक्ष्मण से कहा–‘ देखो इसपक्षी ने भी हमारे लिए प्राण दे द्विए ।

यह संत है! हमारे पिता का मित्र भी है | तुम बन सेलकडियाँ बीन लाओ । में इसका दाह-संस्कार करूँगा ।

जटायु को जलांजलि देकर राम-लक्ष्मण एक घने जंगल में पहुँचे | सामने देखा तो कबंधनाम का एक बहुत बड़ा दानव उनकी रास्ता रोके खड़ा था। उसका पेट बहुत बड़ा था सिरथा ही नहीं।

उसने एक-एक हाथ से दोनों भाइयों को पकड़ लिया और अट्टहास करते हुएबोला- भगवान्‌ ने आज घर बैठे भरपेट भोजन दिया है। मैं कई दिन से भूखा था।

राम-लक्ष्मण ने अपनी-अपनी तलवारें निकालीं और उसकी भुजाएँ कट डालीं | कबंध व्याकुलहोकर पृथ्वी पर गिर पड़ा ।

राम के स्पर्श से उसकी बुद्धि शुद्ध हो गई | उसने राम लक्ष्मण केबारे में जानना चाहा । राम ने उसे अपने बारे में सब बताया । कबंध बोला–‘ मेरा दाह-संस्कारकर दें तो बड़ी कृपा होगी ।

उसने यह भी कहा कि सीता के बारे में मुझे कुछ मालूम तो नहीं.है परंतु मैं एक उपाय बताता हूँ । यहाँ-से दक्षिण-पश्चिम की ओर. ऋष्यमूक नामक एक पर्वतहै । वहाँ मंत्रियों सहित सुग्रीव नाम का एक वानर रहता है |

उससे मिलिए | उसकी मदद सेसीता का पता लग जाएगा । पहले आपको पंपा नाम का सरोवर मिलेगा । सरोवर के किनारे मतंगऋषि का आश्रम है । आश्रम में ऋषि की शिष्या शबरी होगी । उससे भी मिलें |

कबंध मर गया ।

राम-लक्ष्मण ने उसका दाह-संस्कार कर दिया । राम के स्पर्श से वह शाप मुक्तहो गया । एक ऋषि के शाप से वह दानव हो गया था और इंद्र के वज्र को चाट से उसका सिरपेट में घुस गया था। तभी से उसका नाम कबंध पड़ गया था। चलते चलते राम शबरी केआश्रम में पहुंचे । शबरी ने दोडकर राम के पैर छुए चरण थधोए आसन दिया और मीठे-मीठे

फल-मूल खाने को दिए | वह बोली “ऋषि ने मुझे बताया था कि चित्रकूट से चलकर रामकिसी न किसी दिन अवश्य इधर आएँगे ।”’ श्रीराम ने बड़े प्रेम से शबरी के दिए हुए फल खाए |

श्रीराम ने शबंरी से सीताजी का पता पूछा | शबरी ने भी बताया कि सुग्रीव से मित्रताकीजिए |

सीता की खोज में वह अवश्य सहायक होगा । तब शबरी ने श्रीराम को मतंग ऋषिका आश्रम और मतंग वन दिखाया और ऋषि के चमत्कांर की बहुत-सी कथाएँ सुनाईं | फिरराम की अनुमति लेकर उसने शरीर-त्याग कर दिया |

शबरी से मिलकर राम के मन को बड़ीशांति मिली और व्याकुलता जाती रही ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin