वन यात्रा

रमचन्द्र जा का रथ दक्षिण को ओर चला आर सवरा हाते-होते काफी दूर निकल गया।

हरे-भरे और फले -फूले वनों को देखते-देखते राम-लक्ष्मण-सीता गोमती नदी के किनारे पहुँचे !

उस पार कर वे आगे बढ़े ओर सई नदी तक जा पहुँचे ।

सई को पार कर वे थोडी देर के लिएरुक गए।

कौशल राज्य को सीमा वहाँ समाप्त होती थी। राम ने मुड़ुकर जन्मभूमि की ओरदेखा आँखों म॑ आँसू भर वे सुमंत से बोले–““’तात !

न जाने वह दिन कब आएगा जब मेंअपन माता-पिता से फिर मिलूँगा ओर सरयू के पवित्र तट पर घूमूँगा ।’” अयोध्या नगरी की ओरमुंह करक राम हाथ जोड़कर खड़े हो गए ओर कहने लगे—जननी जन्मभूमि ! मेरे अपराध क्षमाकरना ।

चोद॒ह वर्ष के बाद ही अब तुम्हारे दर्शन कर सकूँगा । तभी सीमा प्रान्त के बहुत-से नर-नारी वहाँ इकट्ठे हो गए ।

वे राजा दशरथ को धिक्कारते थे और कहते थे–ऐसे पापी राजाके राज्य में रहना ठीक नहीं । चलो राम के साथ चलें ।

लोगों की ऐसी प्रीति देखकर राम कीआँखें डबडबा आईं । सबको उन्होंने समझाया-बुझाया और वे फिर आगे बढ़े ।

शाम होते-होतेउनका रथ गंगा के किनारे श्रृंगवेरपुर गाँव में जा पहुँचा ।

इंगुदी वृक्ष के नीचे राम ठहर गए ।श्रृंगवेरपुर में निषादों का राजा गृह रहता था ।

राम के आने की खबर पाकर वह स्वागत के लिएआया |

उसके साथ अनेक बंधु-बांधव और सेवक भी थे ।

गुह को आते देख राम उठे औरउससे गले मिले ।

गुह ने कहा- मेरा सौभाग्य है कि आप यहाँ आए । श्रृंगवेरपुर को भीअपना ही घर समझें और सुखपूर्वक रहें ।

श्रीराम ने जब अपने वनवास की बात बताई तोउसको बहुत दुःख हुआ ।

उसने अपना राज्य राम के चरणों में अर्पित कर प्रार्थना की किश्रृंगवेरपुर पर ही राज्य करें ।

श्रीराम ने निषादराज के प्रति कृतज्ञता प्रकट की ।

वे अपने ब्रत परदृढ़ रहे । उस दिन भी उन्होंने केवल जल पिया और वे तृण-शय्या पर ही सोए । लक्ष्मण पहरेपर बैठ गए । गृह और सुमंत भी लक्ष्मण के पास ही बैठ गए ।

उनमें रातभर अयोध्या और श्रीरामके विषय में बातें होती रहीं।

अगले दिन श्रीराम ने सुमंत से कहा–मंत्रिवर ! अब आप अयोध्या लौट जाइए ।

पिताजीऔर माताओं के चरणों में हमारा प्रणाम कहिए और उन्हें बता दीजिए कि चौदह वर्ष बाद हमअवश्य लौट आएँगे ।

भरत से कह दीजिए कि सब माताओं से एक-सा व्यवहार करें और राजाको प्रसन्न रखें ।”

इस प्रकार सुमंत को राम ने समझा-बुझाकर विदा किया ।

तब राम ने बरगद का दूध मँगाकर जटाएँ बनाईं । गुह से विदा लेकर वे सीता ओर लक्ष्मणके साथ नाव में बैठे और गंगा पार कर वत्सदेश में पहुँचे ।

आगे- भागे लक्ष्मण बीच में सीताऔर सबके पीछे राम-इस क्रम में व दुर्गम मार्गों पर चलते हुए आगे बढ़े ।

शाम को फिर एकपेड के नीचे ठहर गए। सब लोगों ने कंद-मूल फल खाए | तब राम ने लक्ष्मण से कहा–“राज्य की मुझे कोई चिंता नहीं है। | मुझे माता की चिन्ता है उनको मुझसे दुःख ही मिला ।

मैं कोई और सेवा न कर सका । लक्ष्मण तुप सबेरा होते ही अयोध्या लौट जाओ और

माता कोशल्या और माता सुमित्रा की देखभाल करो ।” लक्ष्मण ने बड़ी दर तक राम कोसमझा-बुझाकर ढाढ्स बँधाया । सीता-राम के सो जाने पर लक्ष्मण पहरे पर बेठ गए।

अगले दिन वे फिर चले और गंगा-यमुना के संगम पर महर्षि भरद्वाज के आश्रम में पहुँचे ।

भरद्वाज ने उनको आदरपूर्वक ठहराया ।

अगले दिन भरद्वाज से विदा लेकर राम-लक्ष्मण और सीताआगे बढ़े ।

यमुना नदी पार कर दो दिन की यात्रा के बाद वे चित्रकूट जा पहुँचे ।

चित्रकूट केहरे-भरे पर्वत राम को बड़े अच्छे लगे । उन्होंने लक्ष्मण से कहा-अब हम यहीं कुछ दिनतक निवास करें ।

लक्ष्मण ने मंदाकिनी नदी के किनारे एक सुंदर पर्णकुटी बना दी । रामलक्ष्मण और सीता वहाँ रहने लगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin