गालियां

एक गांव में बारात जीमने बैठी । उस समय स्त्रियां समधियों को गालियां गाती हैं पर गालियां न गाई जाती देख नागरिक सुधारक बाराती को बड़ा हर्ष हुआ ।

वहग्राम के एक वृद्ध से कह बैठा “बड़ी खुशी की बात है कि आपके यहाँ इतनीतरक्की हो गई है।

बुड्डा बोला “हाँ साहब तरक्की हो रही है । पहले गलियों में कहा जाता था..

फलाने की फलानी के साथ और अमुक की अमुक के साथ.. लोग-लुगाई सुनते थे हँस देते थे ।

अब घर-घर में वे ही बातें सच्ची हो रही हैं । अब गालियां गाई जाती हैं तो चोरों की दाढ़ी में तिनके निकलते हैं । तभी तो आंदोलन होते हैं कि गालियां बंद करो क्योंकि वे चुभती हैं ।”

-गुलेरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin