वीर बालक चण्ड

चित्तौड़ के राज सिंहासन पर उस समय राणा लाखा विराजमान थे ।

अपने पराक्रम से युद्ध मे दिल्ली के बादशाह लोदी को उन्होने पराजित किया था उनकी कीर्ति चारों ओर फैल रही थी ।

राणा के पुत्रों मे चण्ड सबसे बड़े थे और गुणो मे भी ये श्रेष्ठ थे ।

जोधपुर के राठौर नरेश रणमल्लजी ने राजकुमार चण्ड के साथ अपनी पुत्री का विवाह करने के लिए चित्तौड़ नारियल भेजा ।

जिस समय जोधपुर से नारियल लेकर ब्राह्मण राज सभा मे पहुँचा राजकुमारचण्ड वहाँ नहीं थे ।

ब्राह्मण ने जब कहा कि ‘राजकुमार के लिए मैं नारियल ले आया हूँ ; तब परिहास मे राणा लाखा ने कहा – मैने तो समझा था कि आपइस बूढ़े के लिए नारियल लाये हैं और मेरे साथ खेल करना चाहते हैं ।

राणा की बात सुनकर सब लोग हँसने लगे ।

राजकुमार चण्ड उसी समय राज सभा मे आ रहे थे ।

उन्होने राणा के शब्द सुन लिए थे ।

बड़ी नम्रता के साथ उन्होने कहा – ‘परिहास के लिए ही सही जिस कन्याका नारियल मेरे पिता ने अपने लिए ‘आया’ कह दिया वह तो मेरी माता हो चुकी ।

मैं उसके साथ विवाह नही कर सकता ।’

बात बड़ी विचित्र हो गयी ।

नारियल को लौटा देना तो योधपुर नरेश तथा उनकी निर्दोष कन्या का अपमान करना था और राजकुमार चण्ड किसी प्रकार यह विवाहकरने को तैयार नही होते थे ।

राणा ने बहुत समझाया परन्तु चण्ड टस-से-मस नही हुए ।

जिस पुत्र ने कभी पिता की आज्ञा नहीं टाली थी उसे इस प्रकार हठ करते देख राजा को क्रोध आ गया ।

उन्होने कहा – ‘यह नारियल लौटाया नही जा सकता ।

रणमल्ल का सम्मान करने के लिए इसे मैं स्वयं स्वीकार करता हूँ ; किंतुस्मरण रखो कि इस सम्बन्ध मे कोई पुत्र हुआ तो चित्तौड़ के सिंहासन पर वही बैठेगा ।’

कुमार चण्ड को पिता की इस बात से तनिक भी दुख नही हुआ ।

उन्होने भीष्मपितामह की प्रतिज्ञा के समान प्रतिज्ञा करते हुए कहा – ‘पिताजी ! मै आपकेचरणो को छूकर प्रतिज्ञा करता हूंँ कि मेरी नयी माता से जो पुत्र होगा वही सिंहासन पर बैठेगा और मैं जीवन पर्यन्त उसकी भलाई मे लगा रहुँगा ।

राजकुमारकी प्रतिज्ञा सुनकर सब लोग उनकी प्रशंसा करने लगे ।

बारह वर्ष की राजकुमारी का पाणिग्रहण पचास वर्ष के राणा लाखा ने किया ।

इस नवीन रानी से उनके एक पुत्र हुआ जिनका नाम ‘मुकुल’ रखा गया ।

जब मुकुल पाँच वर्ष के थे तभी गया तीर्थ पर मुसलमानो ने आक्रमण कर दिया ।

तिर्थ की रक्षा के लिए राणा ने सेना सजायी ।

इतनी बड़ी पैदल यात्रातथा युद्ध से जिवित लौटने की आशा करना ही व्यर्थ था ।

राजकुमार चण्ड से राणा ने कहा – ‘बेटा मैं तो धर्म रक्षा के लिए जा रहा हूँ । तेरे इस छोटे भाई’मुकुल’ की आजिविका का क्या प्रबन्ध होगा ?

चण्ड ने कहा – ‘चित्तौड़ का राज सिंहासन इन्ही का है ।’ राणा नही चाहते थे कि पाँच वर्ष का बालक सिंहासन पर बैठाया जाय ।

उन्होने चण्ड को अनेक प्रकार से समझाना चाहा परन्तु चण्ड अपनी प्रतिज्ञा पर स्थिर रहे ।

राणा के सामने ही उन्होने मुकुल का राज्याभिषेक किया और सबसे पहले उनका सम्मान किया ।

राणा लाखा युद्ध के लिए गये और फिर नहीं लौटे ।

राजगद्दी पर मुकुल को बैठाकर चण्ड उनकी ओर से राज्य का प्रबन्ध करने लगे ।

उनके सुप्रबन्ध से प्रजा प्रसन्नऔर सम्पन्न हो गयी ।

वे राजमाता के पास गये और बोले – ‘माँ ! आपको संतुष्ट करने के लिए चित्तौड़ छोड़ रहा हूँ ।किन्तु जब भी आपको मेरी सेवा की आवश्यक्ता हो मैं समाचार पाते ही आ जाऊंँगा ।’

चण्ड के चले जाने पर राजमाता ने जोधपुर से अपने भाई को बुला लिया ।

पीछे स्वयं रणमल्लजी भी बहुत से सेवकों के साथ चित्तौड़ आ गये । थोड़े दिनों मे उसकी नीयत बदल गयी ।

वे चित्तौड़ का राज्य हड़प लेने का षडयंत्र रचने लगे ।

राजमाता को जब इसका पता लगा वे बहुत दुखी हुई ।अब उनका कोई सहायक नहीं था ।

उन्होने बड़े दुख से चण्ड को पत्र लिखकर क्षमा माँगी और चित्तौड़ को बचाने के लिए बिलाया ।

संदेश पाते ही चण्ड अपने प्रयत्न मे लग गए । अन्त मे चित्तौड़ को उन्होने राठौर के पंजे से मुक्त कर दिया ।

रणमल्ल तथा उनके सहायक मारे गये तथा उनके पुत्रबोधा जी भाग गए । कुमार चण्ड आजीवन राणा मुकुल की सेवा मे लगे रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin