ईश्वर पर विश्वास

ऋषिकेश में गंगा जी के किनारे एक संत रहा करते थे।

वह जन्मांध थेऔर उनका नित्य का एक नियम था कि वह शाम के समय ऊपर गगन चुंबी पहाड़ों में भ्रमण करने के लिये निकल जाते और हरी नाम का संकीर्तन करते जाते।

एक दिन उनके एक शिष्य ने उनसे पूछाबाबा आप हर रोज इतने ऊंचे ऊंचे पहाड़ों पर भ्रमण हेतु जाते हैं।

वहां बहुत गहरी गहरी खाइयां भी हैं।

और आपको आंखों से दिखलाई नहीं देता।

क्या आपको डर नहीं लगता ?

अगर कभी पांव लड़खड़ा गये तो ?

बाबा ने कुछ नहीं कहा और शाम के समय शिष्य को साथ ले चले।

पहाड़ों के मध्य थे तो बाबा ने शिष्य से कहाजैसे ही कोई गहरी खाई आये तो बताना।

दोनों चलते रहेऔर जैसे ही गहरी खाई आयीशिष्य ने बताया कि बाबा गहरी खाई आ चुकी है।

बाबा ने कहामुझे इसमें धक्का दे दे।

अब तो शिष्य इतना सुनते ही सकपका गया।

उसने कहाबाबा मैं आपको धक्का कैसे दे सकता हूँ।

मैं ऐसा हरगिज नहीं कर सकता।

आप तो मेरे गुरुदेव हैंमैं तो किसी अपने शत्रु को भी इस खाई में नहीं धकेल सकता।

बाबा ने फिर कहामैं कहता हूं कि मुझे इस खाई में धक्का दे दो।

यह मेरी आज्ञा हैऔर मेरी आज्ञा की अवहेलना करोगे तो नर्क गामी होगे।

शिष्य ने कहाबाबा मैं नर्क भोग लूंगा मगर आपको हरगिज इस खाई में नहीं धकेल सकता।

तब बाबा ने शिष्य से कहारे नादान बालकजब तुझ जैसा एक साधारण प्राणी मुझे खाई में नहीं धकेल सकता तो बतामेरा मालिक भला कैसे मुझे खाई में गिरने देगा।

उसे तो सिर्फ गिरे हुओं को उबारना आता हैगिरे हुओं को उठाना आता हैवह कभी भी किसी को गिरने नहीं देता।

वह पल पल हमारे साथ हैबस हमें विश्वास रखना होगा उस पर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin