क्या फर्क पड़ता है ?

एक शहर में एक बहुत अमीर व्यक्ति रहता था। उसका नाम तो था धनीमल लेकिन था वह बेहद कंजूस।

उसका कहना था कि अगर आप अपना पैसा अपने पास रखेंगे तो सबको पता चल जाएगा कि आपके पास बहुत पैसे है।

फिर चोर-डाकू आपके पीछे पड़ जाएँगे और सारा पैसा लूटकर ले जाएँगे। इसलिए वह अपना सारा पैसा छिपाकर रखता था और खुद एक बहुत गरीब व्यक्ति के समान रहता था।

पैबंद लगे कपड़े घिसे हुए जूते रुखा-सूखा खाना यह सब देखकर लोग उसे भिखारी समझते थे।

जिनको पता था कि वह धनवान है वे उसे कंजूस कहकर बुलाते थे। एक दिन धनीमल को अपनी संपत्ति को चोरों से बचाने का एक बहुत बढ़िया उपाय समझ में आया।

उसने सारे पैसों से बहुत-सा सोना खरीद लिया और फिर सारे सोने को पिघलाकर उसका एक बड़ा-सा गोला बना लिया। उसने शहर के बाहर जाकर एक पुराने कुँए के पास एक गड्ढा खोदा और सोने का वह गोला उसमें डालकर गड्ढा बंद कर दिया। वह अब निश्चिंत था।

अपनी तसल्ली के लिए वह रोज रात को आकर गढ्ढे में देख लेता था कि उसका सोना वहाँ है या नहीं।

उसे विश्वास था कि कोई भी चोर इस जगह के बारे में नहीं जान पाएगा।

लेकिन ऐसा नहीं हुआ। धीरे-धीरे पुरे शहर में यह चर्चा होने लगी कि धनीमल रात में शहर के बाहर जाकर कुछ करता है।

एक रात जब उसने गढ्ढा खोदकर देखा तो सोना वहां से गायब था।

उसे गहरा सदमा लगा और वह चीखकर रोने लगा। उसके रोने की आवाज सुनकर बहुत-से लोग वहाँ आ गए। धनीमल रो-रोकर अपना दुःख बताने लगा।

तब उसके एक पड़ोसी से उसे कहा धनीमल तुम एक भारी पत्थर इस गढ्ढे में रख दो और समझ लो कि वही तुम्हारा सोना है।

यह सुनकर धनीमल को बहुत गुस्सा आया।

तुम मेरे सोने को पत्थर जैसे बता रहे हो।

वह बोला।

देखो धनीमल वह सोना तुम कभी इस्तेमाल तो करते नहीं थे।

एक पत्थर की तरह यहां उसे दबाकर रख दिया था तो फिर यहां सोना हो या पत्थर क्या फर्क पड़ता है ?

उसका पड़ोसी बोला।

बात तो ठीक ही थी। धनीमल ने बहुमूल्य सोने को पत्थर के समान मूल्यहीन बना दिया था।

उसके बाद धनीमल ने मेहनत करके फिर पैसे कमाए लेकिन अब वह कंजूस नहीं रहा था। अपने पैसे को वह अपने ऊपर और दूसरे लोगों की सहायता के लिए खर्च करता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin