सुंदर कौन है ?

सीमा पांचवीं कक्षा में पढ़ती थी ।

पढ़नेलिखने में बहुत कमजोर थी ।

बस उस की एक ही विशेषता थी की वह दिखने में सुंदर थी इसलिए सब उस की सुंदरता की तारीफ करते थे ।

सीमा को इस बात का घमंड हो गया और वह ऐसी लड़कियों से नफरत करने लगी जो सुंदरता में कुछ कम थी ।

उसे सब से अधिक वंदना से नफरत थी क्योंकि उस का रंग कुछ काला था ।

वह हमेशा उसे ‘काली बिल्ली’ कह कर चिढ़ाती थी ।

लेकिन वंदना का स्वभाव इतना अच्छा था कि वह उसे कभी कुछ न कहती ।

वंदना बड़ी भोली भाली लड़की थी ।

पढ़ने लिखने में बड़ी होशियार थी ।

सभी अध्यापिकाएं उसे बहुत प्यार करती थी ।

घर पर भी माँ उस से बहुत खुश थी ।

हर काम में माँ को सहयोग देती ।

सभी काम वह मन लगा का करती थी ।

वह बड़ी बड़ी सफाई पसंद थी इसलिए हमेशा साफसुथरी भी रहती थी ।

सीमा सारे दिन घर से बाहर खेला करती अर्द्धवार्षिक परीक्षा निकट आ गई लेकिन उसे तो किसी बात की चिंता नहीं थी ।

एक दिन सीमा सवेरे अपने घर से बाहर निकली । उस के पापा नई गेंद लाए थे इसलिए वह बहुत खुश थी ।

वह सीधी अपनी एक सहेली दिव्या के घर गई ।

दिव्या उस समय अपने घर की सफाई करने में मदद कर रही थी ।

सीमा को देखते ही वह बोली आओ सीमा ।

दिव्या चलो बाहर खेलने के लिए चलते हैं ।

नहीं सीमा मुझे तो अभी बहुत काम करना है ।

फिर सवेरे-सवेरे पढ़ने का समय होता है ।

मैं शाम को खेलूंगी ।

यह सुन कर सीमा ने मन ही मन कहा बड़ी आई काम करने वाली और मुंह फुला कर बाहर चली आई ।

इस के बाद वह अपनी दूसरी सहेली रीता के यहां गई और नई गेंद दिखाते हुए बोली रीता क्या तुम मेरे साथ चलेगी ?

नहीं मैं तुम्हारे साथ अभी नहीं जा सकती । मुझे अभी पढ़ाई करनी है घर का काम करना है ।

यह सुनकर वह चुपचाप बिना कुछ कहे गुस्से से बाहर चली गई ।

इस के बाद वह अपनी कई सहेलियों के घर गई पर सभी पढ़ाई कर रही थी ।

किसी को खेलने की फुरसत नही थी ।

सीमा सोचने लगी इन सब को क्या हो गया है ?

इन्हें तो बस घर का काम करना और पुस्तकें पढ़ना ही पसंद है ?

फिर कुछ सोच कर सीमा अपनी प्रिय सहेली नीता के घर गई लेकिन वह भी उस समय पढ़ाई कर रही थी ।

सीमा ने उस की पुस्तक बंद करते हुए कहा क्या हरदम तोते की तरह पुस्तकें रटती रहती हो ।

चलो बाहर खेलने चलते हैं ।

सीमा वार्षिक परीक्षा निकट है ।

मुझे पढ़ाई करनी है इसलिए मैं तुम्हारे साथ खेलने नहीं चल सकती ।

तुम भी अपने घर जा कर पढ़ाई करो वरना इस बार फिर फेल हो जाओगी ।

सीमा उदास मन से लौटने लगी तभी उसे नीता की आवाज सुनाई दी ।

वह अपने माँ से कह रही थी देखो न माँ सीमा सवेरे-सवेरे खेलने के लिए आ गई ।

उसे पढ़ाई की बिलकुल चिंता नहीं है ।

मैं अब उस के साथ नहीं रहूंगी । जब देखो तब वह अपनी सुंदरता की चर्चा करती रहती है ।

माँ मुझे तो वंदना बहुत अच्छी लगती है । वह बहुत मेहनती है ।

पढ़ने लिखने में भी बहुत होशियार है । बस उस का रंग ही थोड़ा सा काला है ।

यह सीमा तो उस बेचारी को ‘काली बिल्ली’ कह कर चिढ़ाती रहती है ।

यह सुनकर उस की माँ बोली नीता सुंदरता रंग से नहीं गुणों से होती है ।

अच्छे गुण ही वंदना की सुंदरता है ।

सीमा इस के आगे कुछ न सुन सकी । वह चुपचाप अपने घर की ओर जा रही थी लेकिन तभी रास्ते में केले के छिलके पर उस का पैर पड़ गया ।

वह फिसल गई ।

वंदना अपने घर के बाहर खड़ी थी । उस ने सीमा को गिरते देखा तो तुरंत दोनों हाथ पकड़ कर उसे बड़े प्यार से उठाया ।

यह देख कर सीमा की आँखे भर आई । वह मन ही मन सोच रही थी कि वह वंदना से कितनी नफरत करती है लेकिन वंदना के मन में उस के लिए कितना प्यार है ।

वह बोली वंदना तुम सबसे सुंदर हो और मैं ‘काली बिल्ली’ हूँ ।

मैंने तुम्हें काफी तंग किया है बहुत चिढ़ाया है मुझे माफ कर दो ।

अरे भला सहेली से माफी मांगी जाती है ?

सचमुच सीमा ने अपनी सुंदरता पर घमंड करना और वंदना को चिढ़ाना छोड़ दिया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Solverwp- WordPress Theme and Plugin